बॉलीवुड

मुमताज से शादी रचाना चाहते थे फिरोज खान, बन बैठे समधी, जानिए पूरी कहानी

Feroz Khan

हिन्दी सिनेमा के दिग्गज अभिनेता फिरोज खान (Feroz khan) की आज 12वीं पुण्यतिथि है। फिरोज ने अपनी कड़ी मेहनत और संघर्ष से सिनेमा जगत में एक बड़ा नाम कमाया।

आलम यह था कि उन्हें अपने पैर जमाने के लिए कई बी ग्रेड फिल्मों में काम करना पड़ा था। लेकिन, 1965 में अशोक कुमार और राजकुमार के साथ उन्हें ऊंचे लोग फिल्म में काम करने का मौका मिला और इस फिल्म ने उनकी जिंदगी बदल ली। 

Feroz Khan

इसके बाद उन्होंने तस्वीर, सफर, गीता मेरा नाम, काला सोना, धर्मात्मा जैसी कई सुपरहिट फिल्मों में काम किया। 

बड़े पर्दे पर फिरोज खान (Feroz Khan) और मुमताज की जोड़ी लोगों को काफी पसंद किया जाता था। उन्हें मुमताज से प्यार था और वह उनसे शादी करना चाहते थे, लेकिन ऐसा हो नहीं पाया।

लेकिन, किस्मत ने दोनों को एक रिश्ते में बांध ही दिया। दरअसल, फिरोज के बेटे फरदीन खान और मुमताज की बेटी नताशा एक-दूसरे से प्यार करते थे और दोनों शादी करना चाहते थे। 

दोनों के परिवार वालों ने उनकी शादी करा दी। इस तरह फिरोज, मुमताज के समधी बन गए।

यह भी पढ़ें – नवाबी खानदान में पैदा हुई थीं जोहरा सहगल, अपने अक्खड़पन के कारण फिल्मों में कमाया बड़ा नाम

यह भी पढ़ें – पाकिस्तान के एक्टर-सिंगर अली जफर ने भारत के लिए मांगी दुआ

Share

Comment here