Uncategorized

जानिए कोरोना के अलावा किन बीमारियों में चली जाती है सूंघने और स्वादने की शक्ति

Smell And Taste

आज पूरी दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही है। इस खतरनाक वायरस से संक्रमित व्यक्ति का तंत्रिका तंत्र प्रभावित हो जाता है, जिस वजह से लोगों की गंध और स्वाद महसूस करने की क्षमता खत्म हो जाती है और यह इस संक्रमण के शुरुआती लक्षण हैं। 

कई बार ऐसा होता है कि इससे संक्रमित व्यक्ति को गंध और स्वाद, वास्तविक स्वाद और गंध से ठीक विपरीत आता है। लेकिन, कोविड-19 एकमात्र ऐसी बीमारी नहीं है, जिसमें लोगों को इन परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

आइये यहाँ हम आपको उन बीमारियों के बारे में बताते हैं:

यदि आपको फ्लू हो जाता है, तो आपकी सूंघने और स्वादने की क्षमता 60 प्रतिशत तक कम हो जाती है। हालांकि, यह समस्या ज्यादा गंभीर नहीं होती है और मरीज के सामने जब कोई तेज गंध वाली वस्तु रखी जाए, तो वह सूंघ सकता है। साथ ही, साइनस और कई अन्य तरह की एलर्जी में भी इन कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है।

कैंसर पीड़ितों के साथ भी हो सकता है ऐसा

कैंसर पीड़ितों को सिर और गले के लिए रेडिएशन थेरेपी से गुजरना पड़ता है। इसके बाद, कई बार उनकी सूंघने और स्वादने की क्षमता चली जाती है। इसके साथ ही, यदि आपके सिर में कभी गहरी चोट लगी है, तो भी आपको इन परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है, क्योंकि इससे तंत्रिका तंत्र प्रभावित हो जाती है।

Smell And Taste

विशेषज्ञ बताते हैं कि उम्र के साथ हार्मोन में बदलाव, दांत की बीमारी, आदि से भी आपको इन परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

क्या हैं खतरे?

यदि आपकी स्वादने की क्षमता चली गई है, तो आपके लिए ताजे खाने और बासी खाने में फर्क करना मुश्किल हो जाएगा। वहीं, यदि आपकी सूंघने की शक्ति चली गई, तो यदि आपके घर में गैस लीक हो रहा है, तो आपको पता नहीं चलेगा। जिसके परिणाम काफी खतरनाक हो सकते हैं। इसके अलावा, इस परेशानी से गुजर रहे लोगों पर काफी मनोवैज्ञानिक असर भी होता है।

क्या है घरेलू उपचार

विशेषज्ञ इस समस्या से निपटने के लिए तेज गंध वाले खाद्य पदार्थ जैसे हींग, संतरा आदि का इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं। इसके अलावा, आँखों पर पट्टी बाँध कर सूंघने की सलाह दी जाती है, ताकि दिमाग तेजी से सक्रिय हो।

यह भी पढ़ें – चंद मिनट की वॉकिंग से दूर रहेगी कई बीमारियां, जानिए कैसे?

Share

Comment here